अफ़सोस तो तेरे बदलने का…



नज़ारे तो बदलेंगे ही ये तो कुदरत है,
अफ़सोस तो हमें तेरे बदलने का हुआ है।


, , ,