उदास न कर…



पतझड़ की कहानियाँ
सुना-सुना के उदास न कर,
नए मौसमों का पता बता,
जो गुज़र गया सो गुज़र गया।


, , ,