घर की तलाशी लूंगा…



मैं घर की इस बार
मुकम्मल तलाशी लूंगा,
पता नहीं ग़म छुपाकर
हमारे माँ-बाप कहाँ रखते थे?


, , ,