चाहत इतनी ही हो…



चाहत इतनी ही हो कि जी संभल जाए,
इस कदर भी न चाहो कि दम निकल जाए।
~अनिल कुमार साहू

चाहत इतनी ही हो शायरी


, , ,