तेरी एक झलक…



तरस गए हैं एक झलक पाने के लिए,
बेगाने हो गए हैं सारे ज़माने के लिए,
तुझे किस्मत में नहीं लिखा खुदा ने शायद,
वर्ना क्या-क्या न किया तुझे पाने के लिए।


, , ,