तेरी यादों का साया…



यह प्यार हमें किस मोड़ पर ले आया है,
बेखुदी का आलम चारों तरफ छाया है,
दिल को बहलाने किस तरफ ले जाएँ हम,
यहाँ हर तरफ तेरी यादों का साया है।


, , ,