दिल को तसल्ली…



यूँ तसल्ली दे रहे हैं हम दिल-ए-बीमार को,
जिस तरह थामे कोई गिरती हुई दीवार को।

दिल को तसल्ली शायरी


, , ,