नजर उठा कर तड़प उठे…



मुद्दत से जिन की आस थी
वो मिले भी तो कुछ यूँ मिले,
हम नजर उठा कर तड़प उठे
वो नजर झुका कर गुजर गए।


, , ,