पत्थर बना दिया…



पत्थर बना दिया मुझे रोने नहीं दिया,
दामन भी तेरे ग़म ने भिगोने नहीं दिया,

तन्हाईयाँ तुम्हारा पता पूछती रहीं,
शब् भर तुम्हारी याद ने सोने नहीं दिया,

आँखों में आकर बैठ गई आँसुओं की लहर,
पलकों पे कोई ख्वाब पिरोने नहीं दिया।

पत्थर बना दिया शायरी


, , ,