बस एक माँ…



बस एक माँ की मोहब्ब्बत दिखाई देती है,
जमीं पे एक ही औरत दिखाई देती है,
ऐ बूढ़ी माँ तेरे चेहरे की झुर्रियों की कसम,
हर एक लकीर में जन्नत दिखाई देती है।


, , ,