मुद्दत हुई है बिछड़े हुए…



मुद्दत हुई है बिछड़े हुए अपने-आप से,
देखा जो आज तुमको तो हम याद आ गए।

मुद्दत हुई है बिछड़े हुए शायरी


, , ,