वो ज़िन्दगी क्या है…



किसी के काम न जो आए वो आदमी क्या है,
जो अपनी फिक्र में गुजरे वो ज़िन्दगी क्या है।


, , ,