शिक़वा तुम्हारा न कर सके…



एक पल की जुदाई भी गंवारा न कर सके,
ऐसा वाला इश्क़ हम दोबारा न कर सके,
ज़िन्दगी भर पलट के भी न देखा तुमने,
हम फिर भी शिक़वा तुम्हारा न कर सके।


, , ,